स्वच्छता पर निबंध हिंदी में जानकारी (Swachhata per nibandh)

नमस्कार दोस्तों आज हम स्वच्छता के बारे में पड़ेंगे और हमें स्वच्छता किस प्रकार से रखनी चाहिए और यह हमारे जीवन में किस प्रकार से खुशी लाती हैं ,स्वच्छता का महत्व हमारे जीवन में बहुत ही अति आवश्यक है। स्वच्छता हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

वह हम स्वच्छता किस प्रकार से रख सकते हैं। स्वच्छता पर निबंध हिंदी में जानकारी (Swachhata per nibandh) और गांधीजी के महत्वपूर्ण 10 बाते स्वच्छता के बारे में बताइए।

स्वच्छता पर निबंध हिंदी में जानकारी (Swachhata per nibandh)

प्रस्तावना : स्वच्छता पर निबंध (Swachhata per nibandh)

स्वच्छता हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। और इसका महत्व हमारे जीवन में बहुत होता है अगर हम साफ सफाई रखें तो हमें अपने जीवन में आने वाली कहीं चुनौतियां से मुक्ति मिल सकती हैं और हमें पता कि स्वच्छता हमारे लिए बहुत आवश्यक है इसलिए हमे स्वच्छता रखनी चाहिए।

स्वच्छता का अर्थ होता है कि सफाई में रहने की आदत रखना सफाई से रहने से हमारे शरीर को स्वस्थ रखना चाहिए वही स्वच्छता तन और मन दोनों को ही अच्छी लगती हैं और स्वच्छता सभी लोगों को अपनी दिनचर्या में भी शामिल करनी चाहिए

Swachhata per nibandh

अगर वह स्वच्छता से रहेंगे तो उनका कोई भी काम नहीं रुकेगा और वह एकदम स्वस्थ तरीके से हर काम को करते रहेंगे। आप साफ सफाई से रहोगे तो आपका मन भी पूरी तरीके से काम करने में व्यस्त रहेगा। और आप तन मन से अपना काम पूरा करोगे हमें पता है कि हम कभी बिना नाहे रहते हैं तो हमें बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है।

Read Also : आत्मनिर्भर भारत पर निबंध हिंदी में जानकारी (Aatm nirbhar Bharat per nibandh)

अगर हम नाह लेते हैं तो हमें एक नई ताज़गी मिल जाती है। वह हमारे शरीर को एकदम से स्वस्थ हो जाता है और हमारे मन को भी अच्छा लगता है।

महात्मा गांधी जी ने कहा था कि- ‘स्वच्छता ही सेवा है।

हमारे लिए अपने देश के लिए और अपने खुद के जीवन के लिए हम स्वच्छता की बहुत जरूरत होती हैं और अगर हम देश की सुरक्षा कर रहे हैं और उसे स्वच्छता से लग रहे हैं तो यह भी एक प्रकार की देश सेवा ही कहलाती है हमारे आस पास के वातावरण तथा जीवन को बहुत ही प्रभावित करती हैं

इसलिए हमें आसपास सफाई रखना अवश्य जरूरी बताएं जिससे हमारे जीवन में कुछ नया करने की आदत आती है औरों को भी उसके प्रति प्रेरित करें ताकि वह भी स्वच्छता रखें।

अगर हम स्वच्छता रखेंगे तो हमें देख कर बहुत लोग भी स्वच्छता रखने लगेंगे अगर हम सोचता नहीं रखेंगे तो उससे भी हमें देखकर वही सीखेंगे इसलिए आपसे जितना हो अपनी स्वच्छता आप रखें ताकि आने वाले लोग भी आपको याद रखें।

स्वच्छता के लिए नारे (Swachhata per nare)

*हम सभी का एक ही नारा, साफ सुथरा हो देश हमारा।

*स्वच्छता का दीप जलाएँगे, चारों ओर उजियाला फैलाएँगे। सफाई अपनाएं, बीमारी हटाएँ।

*स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत।*हम सब ने अब ये ठाना है, भारत स्वच्छ बनाना है।

*कचरा गाँव-शहर फैलाने से मच्छर सुनाएँगे राग, बीमारियाँ पनपेंगी, लग जायेगा प्रदूषण का दाग।

Swachhata per nibandh
Rea Also : मलेरिया पर निबंध हिंदी में जानकारी (Essay On Malaria In Hindi)|10 Best Prevention

स्वच्छता का महत्व (Swachhata ka mahatw)

स्वच्छता का महत्व हमारे जीवन में बहुत ही अति आवश्यक है हमें पता है कि अभी कोरोना काल में रोगियों की बढ़ती जनसंख्या और अस्पताल में बढ़ते लोगों को ध्यान में रखते हुए वहा साफ सफाई का ध्यान रखना बहुत जरूरी था क्योंकि हमें पता है कि जहा गंदगी फैली है वहा और भी बहुत प्रकार के रोग फैलते हैं इसलिए हमें स्वच्छता रखना बहुत आवश्यक है।

जीवन में स्वच्छता से तात्पर्य होता है कि सच की अवस्था में ही रहना स्वच्छता एक बहुत अच्छी आदतें हे जो हमारे जीवन के गुणवतो को बढ़ाती हैं। यह हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण भाग है जो हमारे लिए शरीर की भी स्वच्छता अधिक आवश्यक है। शरीर की स्वच्छता रखना जैसे रोज नहाना, दांतो की सफाई करना, स्वच्छ कपड़े पहनना, नाखून का काटना टाइम टाइम पर काटना, कपड़े चेंज करना आदि।

इसके लिए हमें रोज प्रतिदिन सुबह जैसे ही हम सोकर उठते हैं तो हमें अपने दांतों को साफ करना चाहिए और चेहरा तथा हाथ पैर धोना चाहिए साथ ही स्नान और दैनिक क्रियाओं को समय पर करना चाहिए ताकि हमें एक ताजगी मिलती रहे। ओर हम स्वस्थ रहें।

स्वस्थ रहना और शांति से जीवन यापन करने का स्वच्छता रखना ही स्वस्त रखना ही होता है इसके लिए हमें बड़े बुजुर्गों और अपने माता-पिता और अपने बच्चों को इसकी आदत में रखना चाहिए ताकि वह भी स्वच्छता के महत्व को समझे और स्वच्छता रखें।

स्वच्छ भारत अभियान (Swachh Bharat Abhiyan)

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत सर्वप्रथम महात्मा गांधी ने की थी लेकिन उसके बाद भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी ने उसे पूरा करने का सपना देखा था। और इसे 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की 145 वी जयंती पर चलाया गया था और यह एक महत्वपूर्ण अभियान है

इस अभियान को नई दिल्ली के राजघाट से शुरू हुआ था या एक राष्ट्रीय स्तर पर अभियान है और भारत सरकार द्वारा इसे चलाया जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत बहुत सारी योजनाएं शामिल की गई है। जिसमें ग्रामीणों के घरों में शौचालय और भी सुख सुविधाएं निर्माण करने की प्रमुख निर्णय लिए गए थे।

जिससे लोग आसपास की स्वच्छता का महत्व समझे और वातावरण को स्वस्थ रखें ताकि अपने आसपास कोई गंदगी ना हो।

Swachhata per nibandh
Read Also : शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए (3 Best Benefits of shatavari in hindi)

स्वच्छता को लेकर महात्मा गांधी के महत्वपूर्ण विचार जो निम्न प्रकार से बताया गए हैं:-

  1. महात्मा गांधी जी ने कहा था कि हमें राजनीतिक स्वतंत्रता से अधिक जरूरी स्वच्छता रखनी चाहिए। गंदगी को फैलने से रोकना चाहिए।
  2. हम अच्छी साफ सफाई से ही भारत के गांव को आदर्श बनाना चाहिए ताकि गांव भी अच्छे दिखे और ग्रामीण भी स्वच्छता में भाग ले।
  3. यदि कोई व्यक्ति स्वच्छ नहीं है तो वह कभी भी स्वस्थ नहीं रह सकता हूं और उसका मन भी कहीं नहीं लग सकता है जिससे वह वह भी बीमार हो जाएगा।
  4. हमें भारत की सारी नदियों को साफ रखना चाहिए और अपनी सभ्यता को जिंदा रखना चाहिए ताकि पानी भी गंदा ना हो वह स्वच्छता भी बनी रहे।
  5. हमें शौचालय को अपने बेडरूम की तरह से साफ रखना चाहिए ताकि वहां पर किसी भी प्रकार के रोग पनप न सके
  6. हर व्यक्ति को अपने कूड़े को खुद ही साफ करना चाहिए ताकि वहां पर किसी भी प्रकार का बैक्टीरिया ना फैले।
  7. सबसे पहले तो अपने अंदर ही हमें स्वच्छता रखनी चाहिए उसके पास हमें दूसरी ओर सोचना चाहिए जब अपने अंदर स्वच्छता होगी तो हम फिर उसरी स्वच्छता के बारे में सोच सकते हैं
  8. स्वच्छता को हमें अपने आश्रम में इस तरह रखना चाहिए कि वह अपनी आदत बन जाए और हम स्वच्छता रखने लगे।

स्वच्छता से होने वाले फायदे (Swachhata se hone wale fayde)

स्वच्छता रखने से हमें बहुत प्रकार के फायदे हो सकते हैं जैसे कि स्वच्छता संबंधी अच्छी आदतें हमें बहुत बीमारियों से बचाती है कोई भी बीमारी ना केवल शरीर के लिए हानिकारक होती है बल्कि अपने खर्चे भी बढ़ा देते हैं क्योंकि हमें पता है कि बीमारी में लोगों से पुरुषों की पूंजी भी खत्म हो जाती है तब भी उनका इलाज नहीं होता है।

Read Also : Cash Credit हिंदी में जानकारी (cc account means in hindi)|5 Most Benefits

हम अगर गंदे पानी और भोजन का सेवन करते हैं तो इससे हमें पीलिया, टाइफाइड कोलेरा, जैसी खतरनाक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। और यह इन्हीं कारणों से खेलते हैं गंदे परिवेश में हमें पता है कि मच्छर पनपते हैं किससे मलेरिया, डेंगू , चिकनगुनिया, जैसी जानलेवा बीमारियां होती हैं

इसलिए हमें अपने आसपास स्वच्छता रखनी चाहिए ताकि हमें इस प्रकार की बीमारियों से जूझना ना पड़े हमे इन बीमारियों को बढ़ावा देने से अच्छा है कि हम अपने आसपास व स्वच्छता से संबंधित नियमों का पालन करें ताकि हमें इस प्रकार की बीमारियों का सामना ना करना पड़े।

ऐसा करके हम देश के लाखों रुपए जो बीमारी में खत्म हो जाते हैं। उन्हें भी बचा सकते हैं और व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ-साथ हमे स्वच्छता भी हमें एक बहुत अच्छा इंसान बना देती है। जो सदैव अपने विकास के साथ-साथ दूसरों का भी अच्छा सोचते हैं।

सभी लोग ऐसे तो उन्हें बहुत अच्छा अनुभव होगा और वह दिन दूर नहीं रह जाता के साथ-साथ हमारा देश प्रगति के आधार पर बहुत अधिक आ जाएगा और भारत विकास के आधार पर बहुत आगे बढ़ जाएगा।

प्लास्टिक बंद और वृक्षारोपण (Plastic band or vrakshyaroopan)

हमें पता है कि प्लास्टिक हमारे जीवन में लगाता जहर गोल रहा है मानव सुबह से लेकर शाम तक हर रोज प्लास्टिक का ही उपयोग कर रहा है। जिससे मानव जीवन की तरह समझता है कि दरअसल वह पर्यावरण व पशु और हम सभी के लिए बहुत ही बुरा प्रतीक है

इससे प्रकृति कम ही नहीं बल्कि लोगों में बीमारियों को अधिक बढ़ावा दे रहे है प्रकृति में संतुलन बनाने के लिए और हमारे आसपास के वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए हमें पेड़ पौधे बहुत अधिक लगाने चाहिए। ताकि हमें एक शुद्ध हवा मिल सके और हमें प्लास्टिक प्रयोग कम करना चाहिए

Read Also : समाचार पत्र हिंदी में जानकारी | Best 30 Newspaper quotes in Hindi

हमे कहीं कूड़े कानून बनाएं जाए ताकि कोई भी प्लास्टिक ऐसे ही ना डाले और उन कूड़े में डालें ताकि हम प्रकृति को बचा सकें। और अपने आसपास स्वच्छता को रख सकें। स्वच्छता के प्रति एक अच्छा सराहनीय कदम है जो वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए बहुत ही अधिक आवश्यक है

अगर हम अधिक से अधिक पौधे लगाए तो यह संभव है। इसलिए हमें अधिक से अधिक पौधे लगाने चाहिए ताकि हम भी स्वस्थ रहें और वातावरण भी बचा रहे और इनसे होने वाली बहुत तरह की बीमारियां फैलती है जो मानव के लिए बहुत ही भयंकर रूप ले सकती हैं

और मानव के विकास में भी बाधा डालती हैं इसलिए हमें स्वच्छता हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। स्वच्छता को अपना कर ही हमें बीमारियों को खत्म करना चाहिए हमें अपने घर के अलावा आसपास की स्वच्छता भी रखनी चाहिए ताकि किसी भी प्रकार की बीमारी ना फैले और हम तथा हमारे आसपास के सारे लोग भी बचे रहे।

स्वच्छता को बनाए रखने के लिए हमें कचरा इधर-उधर नो फेंकना चाहिए और हमें कचरा हमेशा कूड़ेदान में ही डालना चाहिए क्योंकि स्वच्छता में ईश्वर का वास होता है इसलिए हमें स्वच्छता को अपनाना चाहिए और देश को आगे बढ़ाना चाहिए और बेहतर साफ सफाई से ही भारत के गांव को आदर्श बनाया जा सकता है

इसलिए स्वच्छता को अपनाना चाहिए वह खुद को भी स्वच्छता के प्रति पहली तरह के और दूसरों को स्वच्छता के प्रति प्रेरित करें ताकि वह स्वच्छता रखें

निष्कर्ष : स्वच्छता पर निबंध (Swachhata per nibandh)

हम कह सकते हैं कि स्वछता हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण हैं और यह एक मुख्य हिस्सा है। जो स्वच्छता संबंधित है और हम स्वस्थ रह सकते हैं।और अपना जीवन आसानी से भी जी सकते हैं।

जब हमारा स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेगा तो हम अपने परिवेश में भी ठीक नहीं कर पाएंगे इसलिए अगर अपना स्वास्थ्य होगा तो अपना तबीयत भी ठीक है और परिवेश भी। ओर हम स्वच्छता के प्रति समझा सकते हैं

इसलिए हमें अपने छोटे-छोटे बच्चों को स्वच्छता के बारे में बताना चाहिए और स्वच्छता से संबंधित आदते डालना चाहिए बच्चों अपना भविष्य बदलना होगा जिसके बच्चे सामाजिक, वैचारिक, और व्यक्तिगत रुप से स्वस्थ होंगा। ओर देश को आगे बड़ने से कोई नहीं रोक सकता।